ब्लॉग क्या है और अपना ब्लॉग कैसे बनाये

अगर आप इस आर्टिकल को पढ़ रहे हैं। तो इसका मतलब आप जानना चाहते हैं कि ब्लॉग क्या है और अपना ब्लॉग कैसे बनाये। या फिर यह भी हो सकता है कि आपको ब्लॉग के बारे में कुछ जानकारी पहले से ही हो और आप अपनी नॉलेज को और बढ़ाना चाहते हो। 

आज मैं इस आर्टिकल में आप लोगों को Step by Step ब्लॉग क्या है और अपना ब्लॉग कैसे बनाये के बारे में विस्तार से जानकारी दूंगा। अगर आप इस आर्टिकल को ध्यान से पढ़ेंगे तो मेरा दावा है कि आप आसानी से अपना ब्लॉग व ब्लॉग्गिंग कैरिअर शुरू कर पाएंगे।

ब्लॉग क्या है और अपना ब्लॉग कैसे बनाये
Source - Pixabay

ब्लॉग क्या है? (What is a blog)

ब्लॉग, वेब्लॉग (“Weblog”) शब्द से बना है यह एक ऑनलाइन डायरी व जर्नल की तरह है। जहां हर कोई किसी विशेष विषय पर अपना अनुभव व ज्ञान इंटरनेट के माध्यम से लोगों तक पहुंचा सकता है। 

आप चाहे तो आप अपने ब्लॉग के माध्यम से अपनी नॉलेज अपने शब्दों में व्यक्त कर सकते हैं और अपने यूजर्स को उस विषय के बारें में जानकारी दे सकते हैं।

कहा जाता है कि सबसे पहला ब्लॉग 1994 में जस्टिन हॉल के द्वारा बनाया गया था जिसका नाम Links.net था। उस समय जस्टिन हॉल स्वार्थमोर कालेज के छात्र थे। जस्टिन हॉल यहां पर अपने विचार व अपने ज्ञान को लोगों तक पहुंचाने के लिए लिखते थे। लेकिन उस समय तक भी ब्लॉग नाम का कोई शब्द हुआ ही नहीं करता था। सही तारीख का तो अभी तक पता नहीं चला है, मगर कई लोग कहते हैं कि ब्लॉग शब्द की शुरुआत 1999 में हुई थी। जोकि वेब्लॉग (weblog) शब्द का छोटा रूप है। 

ब्लॉग के प्रकार (Types of the blog)

ब्लॉग के प्रकारों को हम अंको में गिन नहीं सकते हैं, क्योंकि कोई भी ब्लॉग किसी भी विषय पर हो सकता है, और वह किसी विषय के एक भाग पर भी हो सकता है। इसलिए ब्लॉग कई प्रकार के होते हैं, जिनमें से कुछ मुख्य प्रकार के ब्लॉगस के बारे में नीचे बताया गया है।

  • व्यक्तिगत (Personal) ब्लॉग - व्यक्तिगत ब्लॉग में आप अपने व्यक्तित्व और अपने बारे में लिख सकते हैं। 
  • बिजनेस (Business) ब्लॉग - यदि आप कोई बिजनेस करते हैं तो आप अपने बिजनेस का एक ब्लॉग बना सकते हैं। 
  • समाचार (News) ब्लॉग - न्यूज़ ब्लॉग के द्वारा आप नए नए समाचारों से जनता को सूचित कर सकते हैं। 
  • तकनीकी (Technical) ब्लॉग - अगर आप किसी भी प्रकार का तकनीकी ज्ञान रखते हैं तो आप अपना टेक्निकल ब्लॉग बना सकते हैं। 
  • Niche ब्लॉग - Niche ब्लॉग बड़े ब्लॉग का छोटा रूप है, इसमें आप किसी बड़े विषय के एक भाग के बारे में बता सकते हैं। 
  • अतिथि (Guest) ब्लॉग - गेस्ट ब्लॉग के द्वारा आप एक ब्लॉग में लेखकों को आमंत्रित करके उनके द्वारा उनके अनुभव और ज्ञान को बता सकते हैं। 
  • संबद्ध (Affiliate) ब्लॉग - यदि आप किसी प्रोडक्ट के प्रचार के द्वारा कमाई करना चाहते हैं तो आप एक एफिलिएट ब्लॉग भी बना सकते हैं। 
  • मीडिया (Media) ब्लॉग - मीडिया ब्लॉग में आप वीडियो, फोटो और गानों को डाल कर लोगों तक उनको इंटरनेट के माध्यम से पहुंचा सकते हैं। 
  • यात्रा (Travel) ब्लॉग - यदि आप यात्रा करने का शौक रखते हैं तो आप अपनी यात्राओं के बारे में एक ट्रैवल ब्लॉग बना सकते हैं। 
  • सूक्ष्म (Micro) ब्लॉग - माइक्रो ब्लॉग में आप किसी भी एक छोटे विषय पर आर्टिकल लिख सकते हैं। आजकल माइक्रोब्लॉग बहुत ही फेमस होता जा रहा है। 

ब्लॉग कैसे बनाये? (How to create a blog)

अगर आपने ब्लॉग बनाने की ठान ही ली है तो चलिए इस सफर को आगे बढ़ाते हैं, और एक सक्सेसफुल ब्लॉग बनाने के लिए जिन बेसिक चीजों की जरूरत होती है उसके बारे में जानते हैं।

ब्लॉग बनाने का सबसे पहला कदम होता है कि ब्लॉग किस विषय पर बनाया जाए। आप जिस भी विषय में अच्छा ज्ञान रखते हैं आप उस विषय पर अपना ब्लॉग बना सकते हैं। आप अपनी नॉलेज को दूसरे लोगों के ब्लॉग पढ़ कर भी बढ़ा सकते हैं।

एक सफल ब्लॉग बनाने के लिए जो चीज सबसे महत्वपूर्ण होती है वह है ब्लॉग में लिखी जाने वाली सामग्री (Content)। आप अपने आर्टिकल को अच्छे ढंग से विस्तारपूर्वक लिखें जिससे कि पढ़ने वाले के समझ में आ जाए।

ब्लॉग का नाम (Domain Name for a Blog)

आप चाहते हैं कि आपके ब्लॉग को सभी लोग इंटरनेट के माध्यम से पढ़ सकें, तो उसके लिए आपको अपने ब्लॉग के लिए एक नाम की जरूरत होगी, जिसको ब्लॉग नेम (Domain Name) भी कहा जाता है।

आप अपने ब्लॉग के टाइप के हिसाब से अपना ब्लॉग नेम चुने, जैसे कि www.netget.in, www.ehowhindi.com, abouthindi.com, myloaninsurance.ooo आदि।

अगर आप अपना ब्लॉगिंग कैरियर फ्री ब्लॉगिंग से शुरू करना चाहते हैं तो उसके लिए भी बहुत सारी वेबसाइट्स है। जिन पर जाकर आप फ्री में अपना ब्लॉग शुरू कर सकते हैं। लेकिन फ्री ब्लॉगिंग वेबसाइट्स में आपके ब्लॉग का नाम इस प्रकार हो सकता है। जैसे - ehowhindi.blogspot.com, ehowhindi.wordpress.com, laxmanbudakoti.wixsite.com/mysite, आदि।

फ्री ब्लॉगिंग वेबसाइट्स में आपको ब्लॉग नेम के साथ-साथ होस्टिंग भी फ्री में मिलती है। इसका यह मतलब है कि आपको कुछ भी खर्चा करने की जरूरत नहीं है, और आप अपना ब्लॉगिंग शुरू कर सकते हैं। 

यदि आप चाहते हैं कि आप अपना स्वतंत्र ब्लॉग बनाएं तो उसके लिए आपको अपने ब्लॉग के लिए डोमेन नेम को रजिस्टर्ड करना होगा जिसको आप Google domain, godaddy.com और Bigrock.in जैसी बड़ी वेबसाइट पर जाकर कर सकते हैं। आज के कंपटीशन में आपको .com व .in डोमेन 99 से 199 रुपए तक में मिल जाता है। डोमेन नेम रजिस्टर्ड करने के बाद अगला स्टेप होता है डोमेन के लिए होस्टिंग लेना।

ब्लॉग के लिए होस्टिंग (Hosting for a blog)

अगर आप अपना स्वतंत्र ब्लॉग नेम रजिस्टर्ड कर चुके हैं तो उसके बाद आपको होस्टिंग की जरूरत होगी। अगर आप अभी अपना ब्लॉगिंग कैरियर शुरू ही कर रहे हैं तो आपके पास होस्टिंग के लिए दो विकल्प होते हैं।

पहला फ्री होस्टिंग

आप चाहे तो अपने ब्लॉग को फ्री होस्टिंग से भी होस्ट कर सकते हैं। वैसे तो बहुत सारी वेबसाइट फ्री होस्टिंग प्रोवाइड करती हैं, मगर जो सबसे बेस्ट फ्री होस्टिंग वेबसाइट है वह blogspot.com है। 

Blogspot.com, Google का ही प्रोडक्ट है। जहां पर आप अपनी वेबसाइट को फ्री में होस्ट कर सकते हैं और चाहे तो हमेशा के लिए ही इसको इस्तेमाल कर सकते हैं। Blogspot को इस्तेमाल करने के बहुत सारे फायदे भी हैं और कुछ नुकसान भी हैं।

फायदे - बिना इन्वेस्टमेंट के बेस्ट वेब होस्टिंग, 100% Server Up Time, फास्ट व सिक्योर सर्वर, सर्वर डाउन होने की कोई टेंशन नहीं, Unlimited Storage and Bandwidth, Unlimited domain hosting, बैकअप लेने की कोई टेंशन नहीं आदि।

नुकसान - सीमित ऑप्शन, कम Plugin, सीमित Themes आदि। 

देखा जाए तो Blogspot पर अपने ब्लॉग को होस्ट करने के फायदे ज्यादा हैं और नुकसान कम NetGet.in भी Blogspot पर ही होस्ट है।

दूसरा Paid होस्टिंग

अगर आपके पास थोड़ा पैसा है तो आप Paid होस्टिंग भी ले सकते हैं। आजकल Paid होस्टिंग 100 रुपए महीने में मिल जाती है। बस ध्यान रखें कि जिस भी कंपनी से आप होस्टिंग ले रहे हैं उसका Customer Support अच्छा हो, और हो सके तो इंडियन सर्वर ले। शुरू में आप कोई भी छोटा होस्टिंग प्लान ले सकते हैं, लेकिन जब आपके ब्लॉग में ट्रैफिक बढ़ जाएगा तो आपको बड़ा होस्टिंग प्लान लेना होगा जिसके लिए आपको ज्यादा Pay भी करना पड़ सकता है। Paid होस्टिंग के फायदे व नुकसान।

फायदे - आप अपने हिसाब से अपनी होस्टिंग में कोई भी CMS डाल सकते हैं और अपना ब्लॉग शुरू कर सकते हैं, स्वतंत्र रूप से अपने ब्लॉग को बना सकते हैं, Themes का इस्तेमाल कर सकते हैं, Plugins का इस्तेमाल, Unlimited options आदि।

नुकसान - हर महीने का खर्चा, आपका ब्लॉग कभी भी Down हो सकता है, सीमित Storage and Bandwidth, सीमित Domain Hosting, बैकअप लेने की टेंशन, आदि।

निष्कर्ष

अगर आप मेरी राय माने तो आप अपना ब्लॉग नेम रजिस्टर्ड करें और होस्टिंग के लिए Blogspot.com बहुत ही बढ़िया है। जब आपको लगे कि आप एक अच्छे ब्लॉगर बन चुके हैं और आप अपने ब्लॉग को बड़े लेवल तक पहुंचाना चाहते हैं तो तब आप Blogspot से अपने ब्लॉग को Paid होस्टिंग में बदल सकते हैं। 
इस आर्टिकल में मैंने आपको ब्लॉग क्या है और अपना ब्लॉग कैसे बनाएं के बारे में विस्तार से समझाया है। फिर भी यदि आपके मन में कोई सवाल हो तो नीचे कमेंट बॉक्स में कमेंट करके जवाब पूछ सकते हैं।
Previous Post
First
Related Posts