ब्लॉगिंग के लिए Best ब्लॉगिंग प्लेटफॉर्म कैसे चुना

क्या आप अपना ब्लॉग शुरू करना चाहते हैं, लेकिन सर्वश्रेष्ठ ब्लॉगिंग प्लेटफॉर्म का चयन नहीं कर पा रहे? आप जानते हैं कि यह सभी नए ब्लॉगर्स के साथ होता है, क्योंकि यहां कई अलग-अलग ब्लॉगिंग प्लेटफॉर्म है. तो आप कैसे पता लगाएंगे कि आपके ब्लॉग के लिए कौन सा प्लेटफॉर्म सही है? इस आर्टिकल में, मैं आपको जो 2 सबसे लोकप्रिय प्लेटफार्म है उनकी कुछ अच्छाइयां और बुराइयों के बारे में बताऊंगा, जिससे आपको ब्लॉगिंग प्लेटफॉर्म के चयन करने में आसानी होगी.
ब्लॉगिंग के लिए Best ब्लॉगिंग प्लेटफॉर्म कैसे चुना
Source : Pixabay

ब्लॉगिंग प्लेटफार्म

ब्लॉगिंग प्लेटफॉर्म एक ऑनलाइन सॉफ्टवेयर है, जिसका इस्तेमाल करके आप अपने ब्लॉग की सामग्री (Content) को अपने ब्लॉग में प्रकाशित (Publish) करते हैं. जैसे - आर्टिकल, समाचार, फोटो, वीडियो और गाने.

मौजूदा समय में दो ही बेस्ट प्लेटफॉर्म है, जो ब्लॉगिंग में सबसे ज्यादा इस्तेमाल किए जाते हैं. इसीलिए मैं उन दोनों ब्लॉगिंग प्लेटफॉर्म के बारे में आपको बताने जा रहा हूं. साथ ही मैं यह भी बताऊंगा कि, किस प्लेटफार्म को इस्तेमाल करने से आपको क्या सुविधाएं हो सकती है और क्या सुविधाएं.

Wordpress vs Blogger


तो पहले ब्लॉगिंग प्लेटफॉर्म के बारे में डिटेल में जानते हैं.


Wordpress ब्लॉगिंग प्लेटफार्म (Self Hosted)

Wordpress.org पूरी दुनिया का सबसे लोकप्रिय ब्लॉगिंग सॉफ्टवेयर है, यह Self Hosted ब्लॉगिंग प्लेटफॉर्म है जिसका मतलब यह है कि इस सॉफ्टवेयर को चलाने के लिए आपको होस्टिंग भी खरीदनी होगी. “ब्लॉग होस्टिंग और बेस्ट वेब होस्टिंग प्लान” के बारे में मैंने पहले ही एक आर्टिकल लिखा हुआ है.

Wordpress ब्लॉगिंग प्लेटफॉर्म 27 मई 2003 को प्रकाशित किया गया था. वर्डप्रेस फ्री ब्लॉगिंग प्लेटफॉर्म है, जोकि ओपन सोर्स सॉफ्टवेयर बेस है. वर्डप्रेस PHP और MySQL पर चलता है. PHP “Hypertext Preprocessor” एक सरवर साइट स्क्रिप्टिंग लैंग्वेज है जिसके द्वारा वेबसाइट डिजाइन की जाती है, और MySQL रिलेशनल डेटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम “Relational Database Management System” (RDBMS) है. 

एक ब्लॉग को चलाने के लिए PHP और MySQL का बहुत ज्यादा ज्ञान होना आवश्यक नहीं है. वर्डप्रेस जोकि PHP, CSS और JavaScript से मिलकर बना हुआ है, इसके डाटा को स्टोर करने के लिए MySQL की जरूरत होती है. जब वर्डप्रेस को इंस्टॉल किया जाता है उस समय सिर्फ यह बताना होता है कि MySQL database कहां पर है और उसका यूजर नेम और पासवर्ड क्या है. जिससे वर्डप्रेस MySQL से कनेक्ट हो जाता है और उसका सारा डाटा MySQL में स्टोर होता रहे. 

अच्छाइयां

  • वर्डप्रेस में आपका अपने ब्लॉग पर पूरा नियंत्रण रहता है.
  • आप अपने ब्लॉग को बेहतरीन ढंग से चलाने के लिए थीम्स और प्लगिंस का इस्तेमाल कर सकते हैं.
  • वर्डप्रेस में आप अपने ब्लॉग को आसानी से कस्टमाइज (Customize) कर सकते हैं.
  • आप अपने वर्डप्रेस ब्लॉग को एक सरवर से दूसरे सरवर में सिर्फ 10 मिनट में ट्रांसफर कर सकते हैं.

बुराइयां

  • वर्डप्रेस के लिए होस्टिंग को खरीदना पड़ेगा.
  • हैक होने की ज्यादा संभावनाएं. हो सकता है थीम या प्लगइन में कोई bug होने से आपका ब्लॉग हैक हो सकता है.
  • वर्डप्रेस में समय-समय पर सिक्योरिटी चेक व बैकअप लेने की परेशानी.
  • वर्डप्रेस में इस्तेमाल होने वाले थीम व प्लगइन के बारे में अलग से पढ़ने वह समझने की जरूरत. 
तो चलिए दूसरे ब्लॉगिंग प्लेटफॉर्म के बारे में जानते हैं.


Blogger ब्लॉगिंग प्लेटफार्म

ब्लॉगर एक फ्री ब्लॉगिंग प्लेटफॉर्म है, इसको 1999 में Pyra Labs ने बनाया था जिसको के आगे चलकर 2003 में गूगल ने खरीद लिया था. ब्लॉगर गूगल के द्वारा होस्टेड ब्लॉगिंग प्लेटफॉर्म है, इस में बनाए गए ब्लॉगों को blogspot.com के सबडोमेन में बनाया जाता है जैसे example.blogspot.com.

यदि आप ब्लॉगर पर अपना कस्टम (Custom) डोमेन सेट करना चाहते हैं तो, आप यह काम आसानी से कर सकते हैं, और ब्लॉगर को ब्लॉग व वेबसाइट होस्टिंग के रूप में भी इस्तेमाल कर सकते हैं.

ब्लॉगर में ब्लॉग बनाने के लिए आप अपने जीमेल (Gmail) अकाउंट का इस्तेमाल कर सकते हैं, और एक अकाउंट से अधिकतम 100 ब्लॉग बना सकते हैं.आप चाहे तो ब्लॉगर की मदद से ब्लॉग ही नहीं बल्कि किसी भी प्रकार की वेबसाइट को डिजाइन कर सकते हैं. 

ब्लॉगर के ब्लॉगिंग प्लेटफॉर्म में आप मनचाही थीम को डाल सकते हैं और उस थीम को अपनी जरूरत के हिसाब से कस्टमाइज (Customize) भी कर सकते हैं. ब्लॉगर में प्लगइन नहीं होते हैं. 

अच्छाइयां

  • आपको होस्टिंग व ब्लॉग ऐड्रेस फ्री में मिल जाता है. ( कस्टम डोमेन आपको खुद ही खरीदना होगा)
  • किसी भी प्रकार की हैकिंग, सिक्योरिटी व बैकअप लेने की टेंशन नहीं.
  • आप सिर्फ 5 मिनट में ब्लॉगर को यूज करके अपना ब्लॉग शुरू कर सकते हैं.
  • किसी भी प्रकार के डेटाबेस से कनेक्ट करने की जरूरत नहीं. सारा डाटा गूगल के हाई सिक्योरिटी सर्विस में तोर होता है.
  • ब्लॉगर में ब्लॉग बनाने के लिए आपको किसी भी प्रकार के टेक्निकल ज्ञान की जरूरत नहीं.

बुराइयां

  • बहुत ही कम ब्लॉगिंग टूल्स.
  • वेबसाइट बनाने के लिए बहुत ही कम टेंपलेट्स उपलब्ध होना.
  • काफी समय से ब्लॉगर ने अपने ब्लॉगिंग प्लेटफॉर्म को अपडेट नहीं किया है.
  • किसी भी प्रकार की वर्जित (Restricted) सामग्री को रखने में अकाउंट सस्पेंड हो सकता है.
  • ब्लॉगर में अपने ब्लॉग को बढ़िया ढंग से चलाने के लिए आपको बेसिक HTML और CSS का ज्ञान होना चाहिए.

निष्कर्ष

ब्लॉगिंग दुनिया के 2 सबसे बड़े ब्लॉगिंग प्लेटफॉर्म के बारे में तो मैंने आपको बता ही दिया है मगर यह निर्णय करना सिर्फ आपके हाथ में ही है, आप अपना ब्लॉग किस ब्लॉगिंग प्लेटफॉर्म में चलाना चाहते हैं.
अगर आपके पास होस्टिंग खरीदने के लिए बजट नहीं है तो आप शुरू में अपने ब्लॉग को ब्लॉकर्स पर चला सकते हैं और जब आपके ब्लॉग से कुछ एर्निंग होने शुरू हो जाएगी तब आप अपने ब्लॉग को ब्लॉगर्स से वर्डप्रेस में स्थानांतरण (Transfer) कर सकते हैं. 
ब्लॉगिंग प्लेटफॉर्म के बारे में किसीभी प्रकार के प्रश्न के लिए नीचे कमेंट बॉक्स में अपने प्रश्न को लिखें, और यदि है आर्टिकल आपको पसंद आता है तो, इस आर्टिकल को ज्यादा से ज्यादा शेयर करें.
Previous Post
Next Post
Related Posts